महारैली को लेकर मोदीमय हो गया लखनऊ, लोगों को पीएम का इंतजार

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव की नजदीक आहट के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज लखनऊ में महारैली को संबोधित करंगे। माना जा रहा है कि विधानसभा चुनाव में 300 से अधिक सीटें जीतने का सपना देख रही भाजपा को आज रमाबाई अंबेडकर मैदान में होने वाली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली नई ऊर्जा देगी। प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेंद्र मोदी तीसरी बार तथा नोटबंदी के बाद पहली बार लखनऊ में होंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मोदी आज लखनऊ के रमाबाई अम्बेडकर मैदान में परिवर्तन महारैली को संबोधित क02_01_2017-02-01-2017-up-3-1रेंगे। करीब एक घंटे तक लोगों को सम्बोधन के दौरान वह नोटबंदी और कैशलेस लेनदेन प्रणाली अपनाने के मुद्दे पर भी चर्चा कर सकते हैं। इसके साथ ही वह नए साल में जनता के लिए बड़ी घोषणा भी कर सकते हैं। दावा यह है कि इस रैली में करीब 10 लाख लोग आएंगे। यूपी भाजपा प्रभारी ओम माथुर ने कहा, हमारी लड़ाई सपा से नहीं, पूरा लखनऊ आज मोदीमय है ,बसपा-सपा मुक्त यूपी बनाना है।

ई। इस पर भी अपनी राय प्रकट करेंगे। इसके अलावा यहां सत्तारुढ़ समाजवादी परिवार में चल रहे विवाद के साथ ही बहुजन समाज पार्टी और कांग्रेस सरीखे विपक्षी दलों को निशाने पर लेंगे। भाजपा के दस लाख की भीड़ होने के दावे के अनुरूप जिला प्रशासन ने सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए हैं। उधर, मोदी की परिवर्तन महारैली को लेकर भाजपा कार्यकर्ताओं ने रैली स्थल ही नहीं, पूरे लखनऊ को झंडे, पोस्टरों और बैनरों से पाट दिया है।

पीएम मोदी सोमवार को दोपहर 1.50 पर लखनऊ के चौधरी चरण सिंह इंटरनेशनल एयरपोर्ट अमौसी, पर उतरेंगे। दस मिनट बाद रैली स्थल के लिए रवाना होंगे। 2 बजकर 05 मिनट पर रैली स्थल पर पहुंचेंगे। इसके बाद 3 बजकर 15 मिनट तक रैली स्थल पर रहेंगे। 3 बजकर 25 मिनट पर एयरपोर्ट पहुंचेंगे और फिर वहां से तीन बजकर 30 मिनट पर नई दिल्ली के लिए रवाना हो जाएंगे।

 

भाजपा ने पूरा आईटी सेल रैली स्थल पर लगा दिया है। फेसबुक और ट्विटर पर पीएम की रैली का लाइव चलाने के लिए करीब 250 लैपटॉप के साथ युवकों को बैठा दिया गया है। भारतीय जनता युवा मोर्चा के 1100 कार्यकर्ता रैली में जनसुविधा उपलब्ध कराने के लिए लगाए गए हैं। यातायात के लिए लखनऊ आने वाले सभी मार्गों पर पार्किंग की व्यवस्था की गई है। रैली में आने वाले लोगों के लिए आने- जाने पर उनके भोजन की व्यवस्था की गई है। भाजपा ने रैली में पूरी ताकत लगा दी है। प्रदेश में चार दिशाओं से निकली परिवर्तन यात्रा व छह परिवर्तन रैलियों के बाद यह महापरिवर्तन रैली भाजपा की दशा और दिशा भी तय करेगी।

चुनावी अधिसूचना जारी होने से पहले माना जा रहा है कि यह भाजपा की आखिरी रैली होगी, इसलिए रैली को लेकर बहुत उम्मीदें लगी हैं। भाजपा ने पहली बार विशिष्ट नेताओं की बजाए बूथ स्तर पर काम करने वाले 13 लाख कार्यकर्ताओं को उनके नाम के प्रवेश पत्र के साथ आमंत्रण भेजा है। इनकी बदौलत ही प्रदेश में विधानसभा चुनाव जीतने की रणनीति बनाई गयी है।

ïभाजपा के प्रदेश महामंत्री संगठन सुनील बंसल ने इस रैली की सफलता का खाका तैयार किया है। रैली की तारीख तय होने के साथ ही बंसल ने बूथ और सेक्टर स्तर के कार्यकर्ताओं का मान बढ़ाने के लिए एक नया प्रयोग किया है। अब तक वरिष्ठ नेताओं, सांसदों, विधायकों और पूर्व जनप्रतिनिधियों को ही वीआइपी कार्यक्रमों में पास दिए जाते हैं, लेकिन पहली बार बूथ के कार्यकर्ताओं को खास पहचान दी गयी है।

काशी, गोरखपुर, अवध, ब्रज, कानपुर-बुंदेलखंड और पश्चिम क्षेत्र के कार्यकर्ताओं के लिए अलग-अलग रंग के पास जारी किए गये हैं। प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य के पत्र के साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की तस्वीरों वाला 2017 का कैलेंडर और परिवर्तन रैली के प्रवेश पत्र की एक किट भेजी गई है। एक लाख 30 हजार बूथों पर दस-दस कार्यकर्ताओं के लिए यह किट दी गयी है। इस आमंत्रण से भाजपा को उम्मीद है कि जनसैलाब उमड़ेगा।

रैली के प्रभारी भाजपा के प्रदेश महामंत्री स्वतंत्र देव सिंह का दावा है कि कम से कम दस लाख कार्यकर्ता प्रधानमंत्री को सुनने और उनका मार्गदर्शन प्राप्त करने आएंगे। कई दिनों से 300 पदाधिकारी और वरिष्ठ कार्यकर्ताओं ने जिलों में प्रवास किया है। तैयारी के लिए भाजपा के तीन प्रदेश मंत्रियों को विशेष जिम्मेदारी दी गयी है जिनमें शंकर गिरी को काशी और कानपुर, सुभाष यदुवंश को अवध और गोरखपुर तथा महेश चंद्र श्रीवास्तव को ब्रज और पश्चिम क्षेत्र का प्रभार दिया गया है। तीनों मंत्री रैली क्षेत्र, जिला, विधानसभा, मंडल, सेक्टर और बूथ स्तर तक समन्वय में जुटे हैं।

केशव के पत्र में 15 वर्षों से सपा और बसपा की सरकार के चलते उत्तर प्रदेश में बदहाली, भ्रष्टाचार, गुंडाराज, माफियाराज का मसला उठाते हुए विकास के लिए भाजपा की सरकार बनाने की अपेक्षा की गयी है। भाजपा अपनी इस रणनीति से कार्यकर्ताओं को प्रतिबद्ध करने में जुटी है। परिवर्तन यात्रा, युवा सम्मेलन, पिछड़ा सम्मेलन समेत तमाम कार्यक्रमों में लगातार सक्रिय भूमिका निभा रहे कार्यकर्ताओं को विधानसभा चुनाव के लिए पूरी तरह तैयार किया गया है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *