मुंबई में राम मंदिर पर शिवसेना-बीजेपी में महाभारत

mumbai-bjp-shivsena_1482447309लंबे इंतजार के बाद बृहस्पतिवार को मुंबई में श्रीराम मंदिर रेलवे स्टेशन पर लोकल ट्रेनों का आवागमन शुरू हो गया है। रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने श्रीराम मंदिर रेलवे स्टेशन का उद्घाटन किया। लेकिन, इस उद्घाटन कार्यक्रम में भाजपा और शिवसेना के बीच जमकर महाभारत हुई। 
बीजेपी और शिवसेना के कार्यकर्ताओं ने एक दूसरे के खिलाफ नारेबाजी कर माहौल को तनावपूर्ण बना दिया। इस पर शिवसेना नेता व सूबे के परिवहन मंत्री दिवाकर रावते ने धमकी दी कि 24 दिसंबर को मुंबई में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को नहीं बोलने देंगे।
पश्चिम रेलवे के उपनगरीय स्टेशन गोरेगांव और जोगेश्वरी के बीच ओशिवरा में बने नए स्टेशन का नाम श्रीराम मंदिर रखा गया है। केंद्र में सत्तासीन भाजपा उत्तर प्रदेश की पावन नगरी अयोध्या में भले ही श्रीराम मंदिर बनवाने का श्रेय नहीं ले सकी लेकिन मुंबई में श्रीराम मंदिर रेलवे स्टेशन के बहाने इसका श्रेय लूटने की कोशिश की, जो शिवसेना को रास नहीं आई।
रेलवे स्टेशन पर उद्घाटन कार्यक्रम शुरू होते ही शिवसेना के कार्यकर्ताओं ने बाल ठाकरे के नाम पर नारेबाजी शुरू की तो बीजेपी-बजरंग दल के कार्यकर्ता जय श्रीराम और नरेंद्र मोदी जिंदाबाद के नारे लगाने लगे। इससे मंच पर भाषण दे रहे परिवहन मंत्री दिवाकर रावते नाराज हो गए।
उन्होंने कहा कि यदि हमें नहीं बोलने दिया जाएगा तो शनिवार को मुंबई आ रहे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी नहीं बोलने देंगे। इससे मामला बिगड़ गया और रावते को मंच से उठकर चले जाना पड़ा। भाजपा-बजरंग दल और शिवसेना कार्यकर्ताओं के बीच हुए इस घमासान में पुलिस को भारी मशक्कत करनी पड़ी।

साल 2007 में शुरू हुआ था स्टेशन का काम

श्रीराम मंदिर रेलवे स्टेशन के उद्घाटन कार्यक्रम में भाजपा की ओर से रेलमंत्री सुरेश प्रभु सहित राज्यमंत्री विद्या ठाकुर सहित मुंबई भाजपा अध्यक्ष आशिष शेलार मौजूद थे, जबकि शिवसेना की ओर से राज्यमंत्री रवींद्र वायकर और स्थानीय सांसद गजानन कीर्तिकर, विधायक सुनील प्रभु शामिल हुए।
यह पूरी महाभारत आगामी फरवरी में मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) चुनाव को लेकर हुई। भाजपा और शिवसेना ने इस कार्यक्रम के बहाने अपना वर्चस्व दिखाने की कोशिश की।  
श्रीराम मंदिर स्टेशन का काम साल 2007 में शुरू हुआ था। हालांकि इस स्टेशन का उद्घाटन बीते 27 नवंबर को ही होने वाला था लेकिन नहीं हो पाया। बीजेपी के नेताओं का कहना है कि इस स्टेशन के नामकरण में उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने काफी कोशिश की थी।
लेकिन समय नहीं मिलने के कारण उद्घाटन कार्यक्रम टाल दिया गया था। परंतु, बृहस्पतिवार को भी राम नाईक उद्घाटन कार्यक्रम में शरीक नहीं हो पाए। चूंकि पीएम मोदी बृहस्पतिवार को वाराणसी में थे इसलिए उनका मुंबई आना संभव नहीं हो पाया। 
 
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *