ओपेक की गैर-सदस्य देशों से उत्पादन में कटौती की अपील

crude_oil_10_12_2016अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल (क्रूड) की अधिकता और कम कीमतों की समस्या से निपटने के लिए तेल निर्यातक देशों का संगठन ओपेक हर मुमकिन कोशिश में जुटा है। हाल में उत्पादन घटाने को लेकर अंतरराष्ट्रीय समझौता करने के बाद संगठन गैर-सदस्य देशों को भी क्रूड का उत्पादन घटाने पर राजी कर रहा है। वह इस मुहिम में कितना सफल होगा, यह वक्त ही बताएगा।

बीते महीने सदस्य देशों के बीच हुए करार के क्रियान्वयन के ब्योरे को मजबूत बनाने के मकसद से यहां बैठक हो रही है। इसमें क्रूड का उत्पादन करने वाला प्रमुख देश रूस भी शिरकत कर रहा है। फिलहाल विशेषज्ञ इन देशों के जुटने से बहुत उत्साहित नहीं हैं। उन्हें लगता है कि तमाम देश उत्पादन में कटौती करने के इच्छुक नहीं हैं।

वियना के एनालिस्ट ग्रुप जेबीसी एनर्जी ने शुक्रवार को कहा था कि उसे इस बैठक से बहुत अपेक्षा नहीं है। ग्रुप को नहीं लगता कि यह बैठक क्रूड के अंतरराष्ट्रीय बाजार को दोबारा संतुलित करने में उल्लेखनीय भूमिका अदा कर सकेगी। ओपेक में 30 नवंबर को मासिक उत्पादन घटाने पर सहमति बनी थी।

उसने जनवरी से उत्पादन को 12 लाख बैरल प्रति दिन (बीपीडी) घटाकर 3.25 करोड़ बीपीडी करने का फैसला किया था। डील के तहत ओपेक यह भी चाहता है कि तेल का उत्पादन करने वाले संगठन के बाहर के देश भी उत्पादन में छह लाख बैरल प्रति दिन की कटौती करें।

बातचीत शुरू होने से पहले कार्टेल के प्रमुख नाइजीरिया के मुहम्मद बारकिंदो ने उत्पादन में छह लाख बीपीडी की कटौती करने पर सहमति बन जाने को लेकर उम्मीद जताई। उन्होंने इसे ऐतिहासिक बैठक बताया क्योंकि इसमें ओपेक और गैर-ओपेक सदस्यों की मौजूदगी है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *